Home   Events   News   Articles   Gallery   Forum   Feedback   Contact Us   Donation   Login
Jainism
Origin of Jainism
Jain History
Jain Festivals
Jain Teerth's
Jain Teerthankars
Vegetarianism
Veg - Great Men View
Veg Restaurants
Jain Pujans
Mangalacharan
BhaktamerJi
Meri Bhavna
Jain Prashanavali
Circle Of Karma
Jain Yuva Manch

Manglacharan


णमोकार मंत्र

णमों अरहंताणं
णमों सिद्धाणं
णमों आयरियाणं
णमों उवज्झायाणं
णमों लोए सव्वसाहुणं

एसो पंचणमोयारो सव्व्पावप्पणासणो
मंगलाणं च सव्वेसिं पढमं होई मंगलम!!



चत्तारी दण्डक

चत्तारी मंगलं-अर्हंत मंगलं ,सिद्ध मंगलं, साहू मंगलं,केवली पण्णत्तो धम्मो मंगलं

चत्तारी लोगुत्तमा-अर्हंता लोगुत्तमा. सिद्ध लोगुत्तमा , साहू लोगुत्तमा , केवली पण्णत्तो धम्मो लोगुत्तमा

चत्तारी सरणं पवज्जामि - अर्हंत सरणं पवज्जामि ,सिद्ध सरणं पवज्जामि ,साहू सरणं पवज्जामि

केवली पण्णत्तो धम्मो सरणं पवज्जामि





अर्थ ः- नमन हमारा हैं अर्हंतों को, सिद्धों को, आचार्यों को हैं

आगम पुरूष उपाध्ययों को, और लोक के सब संतों को हैं.

यह पंच नमस्कार मंत्र सब पापों का नाश करने वाला हैं तथा सब मंग्लों में पहला मंगल हैं.

लोक में मंगल चार हैं- अर्हंत परमेष्ठी मंगल स्वरुप हैं, सिद्ध परमेष्ठी मंगल स्वरुप हैं,साधू परमेष्ठी मंगल स्वरुप हैं,

और केवली भगवान् के द्वारा प्रेरित धर्मं मंगल स्वरुप हैं ( जो मॉल अर्थात पापों का गालन अर्थात क्षालन करे अर्थात जो पुण्य को देवे वह मंगल हैं)



लोक में चार ही सबसे उत्तम हैं-अर्हंत ही लोकोत्तम हैं, सिद्ध ही लोकोत्तम हैं, साधू ही लोकोत्तम हैं, और केवली भगवान् द्वारा प्रेरित धर्म ही लोक में उत्तम हैं

चार की ही मैं शरण लेता हूँ - अर्हंतों की मैं शरण लेता हूँ, सिद्धों की मैं शरण लेता हूँ , साधुओं की मैं शरण लेता हूँ और केवली भगवान् द्वारा प्रेरित धर्म्म की मैं शरण लेता हूँ

NamokarMantra

Namo Arhantanam
Namo Siddhanam
Namo Ayariyanam
Namo Uvajjhayanam
Namo Loyesawesahunam


Esopanch Namokaron Sawepaapnashnon
Manglananch Savvesim Padhamam Havei Mangalam:
 

Chatari Dandak


Chatari mangalam-Arhanta mangalam, Sidha mangalam, Sadhu mangalam, kewli panntto dhammo mangalam,
Chatari logutama- Arhanta logutama, Sidha logutama, Sadhu logutama, Kewli panntto dhammno logutama
Chatari sarnam pawjaami- Arhanta sarnam pawjaami, Sidha sarnam pawjaami, Sadhu sarnam pawjaami, kewli panntto dhamam sarnam pawjaami
 

MEANING


I bow down to Arhant
I bow down to Siddha
I bow down to Aacharya
I bow down to Upadhayaya
I bow down to all sadhus(monk) of world
This navakaar mantra is destroyer of all sins and the first mangal among all mangals.
There are only four mangals(wealth) in the world- Arhant , Sidha, Sadhu (Aacharya, upadhyaye n sadhu)and the chastity given by kewli bhagwaan are forms of mangals.
(Who smears out the filth i.e. sins that is who gives the virtue are manglas.)
There are only four uttam (excellence) in the world- Arhant , Sidha, Sadhu (Aacharya, upadhyaye n sadhu)and the chastity given by kewli bhagwaan are the worldly excellence.
(Who is eminent in the world is called uttam.)
I take asylum of only four- Arhant, Sidha, Sadhu (Aacharya, upadhyaye n sadhu)and the virtue given by kewli bhagwaan

Home - Gallery - Feedback - Events - Contact
Copyright Shri Jain Mandir Ji, 2011. All Rights Reserved
Design & Developed By:Triple T